Sarkari Yojna Hindi

कृषि इनपुट अनुदान बिहार के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरें यहाँ से, पूरी जानकारी

Krishi Input Anudan Avedan :- देश के विभिन्न राज्यों मे बिन मौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण बहुत सारे किसानों के फसलें बर्बाद हो चुकी हैं| इन प्राकृतिक आपदाओं के कारण देश के किसानों को बहुत ही ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता हैं| इन्हीं किसानों को लाभ प्रदान करने के लिए “कृषि इनपुट अनुदान योजना” की शुरुआत की गई हैं| इस योजना के अंतर्गत सभी किसान ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| यदि आपका भी फसल बारिश के कारण बरबाद हो चूका हैं तो आप भी इस योजना के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म भर कर आवेदन कर सकते हैं| जिसके बाद आपको अनुदान धनराशी सीधे आपके बैंक अकाउंट मे ट्रान्सफर कर दी जायेगी| कृषि इनपुट आवेदन ऑनलाइन कैसे करना हैं इसके बारे मे विस्तार रूप से जानकारी निचे शेयर की गई हैं|

कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत सभी किसान ओलावृष्टि के कारण ख़राब हुए रवि फसल के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| इस वर्ष जिन किसानों अप्रैल और मई के महीने मे जिन किसानों की ओला, बारिश और प्राकर्तिक आपदा के कारण रबी फसलों का नुकसान हुआ हैं उसकी भरपाई के लिए राज्य सरकार ने किसानो को कृषि अनुदान देने की घोषणा की हैं|

यदि आपकी खरीफ की फसल नष्ट हो गई है, तो इसके लिए आवेदन शुरू हो गया है, आप नीचे दी गई छवि की प्रक्रिया को अपनाकर खरीफ कृषि इनपुट अनुदान के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| बाकी प्रक्रिया वही होगी जो रवि के लिए बतलाई गई हैं:-

कृषि इनपुट अनुदान आवेदन 2020

देश के कई हिस्सों मे बिन मौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण फसलों को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ हैं इस बार किसानों के रबी फसल 90 फ़ीसदी तक खराब हो चुके हैं| ऐसे मे राज्य सरकार अपने किसानो के लिए कृषि अनुदान देने की निर्णय लिया हैं| इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए सभी किसानों को राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं|

बिहार, राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश के राज्य सरकारों ने ओलावृष्टि और असमय बारिश के कारण ख़राब हुए फसलों के लिए राज्य सरकार के द्वारा किसानों को कृषि इनपुट अनुदान रवि फसल के तहत अनुदान देने का वादा किया गया है| राजस्थान के राज्य सरकार ने किसानों को ओलावृष्टि से हो रहे नुकसान के लिए विशेष गिरदावरी अभियान चलाने का निर्णय लिया है|

दूसरी ओर, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एक टोल फ्री नंबर भी जारी किया गया है, जिस पर किसानों को ओलावृष्टि, जलभराव, आकाशीय बिजली गिरने, घटना की स्तिथि मे वे सभी किसानों को घटना के 72 घंटों के भीतर  सूचना बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर 1800 120 90 90 90 पर कॉल कर रजिस्टर्ड कराना आवश्यक है|

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना 2020 ओवरव्यू

इस योजना के तहत अनुदान प्राप्त करने के लिए 9 मार्च 2020 से कृषि विभाग के डीबीटी पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है और रबी की फसलों हुए नुकसान की भरपाई सरकार द्वारा प्राप्त कर सकते है|

योजना का नामकृषि इनपुट अनुदान योजना
विभागप्रत्यक्ष लाभ अंतरण, कृषि विभाग, बिहार सरकार
किसने शुरू कियाबिहार सरकार
लाभार्थीराज्य के पंजीकृत किसान
लाभबारिश और ओलावृष्टि के कारण बरबाद हुए फसलों के लिए अनुदान
स्टेटसचालू
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइटhttps://dbtagriculture.bihar.gov.in/

राजस्थान सरकार द्वारा 10 से 15 दिनों तक एक विशेष गिरदावरी अभियान चलाया जा रहा है

आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने विधानसभा में कहा कि ओलावृष्टि से हुए नुकसान की भरपाई के लिए राजस्थान सरकार और आपदा प्रबंधन दोनों मिलकर काम करेंगे| मंत्री ने यह भी बताया कि किसानों को ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए, अगले 10 से 15 दिनों में विशेष रूप से गिरदावरी करके किसानों को पूर्ण मुआवजा प्रदान किया जाएगा|

उन्होंने नागौर में बिजली गिरने से मरने वाली दो महिलाओं के परिवारों को 4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की भी घोषणा की है| गिरदावरी के माध्यम से ओलावृष्टि से हुए नुकसान का पूरा आकलन किया जाएगा और किसानों को सहायता के लिए संबंधित अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा|

बिहार कृषि इनपुट रवि मौसम अनुदान योजना 2020

इसी तरह बिहार राज्य सरकार भी अपने राज्य के किसानो को लाभ दे रही हैं जिनके फसल 33% से अधिक नष्ट हो गये हैं| इस कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के तहत राज्य के जिन किसानों को बारिश, बाढ़ और ओलावृष्टि से हुई फसल क्षति के लिए वर्षाश्रित (असिंचित) फसल क्षेत्र के लिए 6,800 रूपये प्रति हेक्टेयर और सिंचित क्षेत्र के लिए 13,500 रूपये प्रति हेक्टेयर तथा कृषि योग्य भूमि जहाँ बालू / सिल्ट का जमाव 3 इंच से अधिक हो, वहां 12,200 रु प्रति हेक्टेयर की दर से धनराशी अनुदान दिया जायेगा|

बिहार कृषि इनपुट अनुदान रवि मौसम के लिए आवेदन 9 मार्च 2020 से ही शुरू कर दिया गया हैं| यदि आप भी बिहार राज्य के किसान हैं और अपने फसलों के लिए कृषि इनपुट अनुदान का लाभ उठाना चाहते हैं तो इसके लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| यहाँ निचे हम आपको बिहार में कृषि इनपुट ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया बता रहे हैं|

कृषि इनपुट योजना के पात्रता मानदंड

  • आवेदक बिहार का स्थायी निवासी होना चाहिए|
  • मोबाइल फोन नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • किसान के पास कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए|
  • किसान के पास एलपीसी / भूमि प्राप्ति / वंशावली / जमाबंदी / बिक्री पत्र होना चाहिए|
  • साथ ही, शेयरधारक के साथ वास्तविक कृषि + स्व-भूमि के मामले में भूमि दस्तावेजों के साथ स्व-घोषणा संलग्न करना अनिवार्य है|
  • कृषि दस्तावेज

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना 2020 के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

बिहार राज्य के जो भी इच्छुक किसान भाई कृषि इनपुट अनुदान योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं वे सभी निचे दिये गये स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं :-

  • सबसे पहले dbt agriculture के ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करें|
  • https://dbtagriculture.bihar.gov.in/
  • इसके होम पेज पर “ऑनलाइन आवेदन करें” के आप्शन पर क्लिक करें|
  • उस टैब पर क्लिक करते ही, कृषि इनपुट आवेदन का आप्शन दिखाई देगा|
  • आप्शन पर क्लिक करते ही, एक नया पेज खुलेगा जहाँ आपको किसान पंजीकरण संख्या भरनी होगी|
  • पंजिकरण संख्या भरने के बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा|
  • आपको इस आवेदन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे कि नाम, आयु, पता, आधार संख्या, पंचायत, किसान की श्रेणी, डीओबी, पिता का नाम, आदि भरनी होगी|
  • फॉर्म के दूसरे भाग में, किसानों को अपनी भूमि की जानकारी जैसे कि भूमि का क्षेत्रफल (दशमलव में अधिकतम 2 हेक्टेयर), किसान का प्रकार, और फसल के नुकसान का कारण भरना होगा|
  • किसानों को उपलब्ध कराई गई जगह में खेती योग्य भूमि का विवरण भरना होगा|
  • इसके बाद आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर OTP आएगा|
  • सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करना होगा|
  • इसके बाद आपको अपना आवेदन फॉर्म ऑनलाइन जमा करना होगा|
  • और फिर अंत मे फॉर्म का एक प्रिंट आउट निकाल लें|

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए => यहाँ क्लिक करें

आपको बता दें कृषि इनपुट अनुदान योजना बिहार राज्य मे केवल 19 जिलों गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चम्पारण, पश्चिमी चम्पारण, समस्तीपुर, बेगूसराय, लखीसराय, खगड़िया, भागलपुर, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, सीतामढ़ी, शिवहर, दरभंगा, मधुबनी, पूर्णिया, किशनगंज तथा अररिया में ही शुरू किया जाएगा|

तो इस प्रकार आप सभी कृषि इनपुट अनुदान योजना के अंतर्गत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं| यहाँ इस पोस्ट मे हमने आपको तिन राज्य बिहार , उत्तर प्रदेश , राजस्थान जहाँ सबसे ज्यादा रवि फसल की क्षति हुई है उनकी जानकारी उपलब्ध कराई है|

यदि आपको कृषि इनपुट आवेदन के सम्बन्ध मे कोई और जानकारी चाहिये तो आप अपना सवाल निचे कमेंट मे पूछ सकते हैं| और यदि इस पेज मे दी गई कृषि इनपुट योजना के बारे मे जानकारी अच्छी लगी हो यो इस पेज को बुकमार्क जरुर कर लें ताकी ऐसी ही सभी जानकारी पहुँचती रहे|

Leave a Comment